Tuesday, June 24, 2014

Lala Hanumant Sahai - a forgotten revolutionary

Lala Hanumant Sahai was an Indian revolutionary, a member of Bharat Mata Society (en: a society formed by some of Indian revolutionaries in 1907 under the leadership of Sufi Amba Prasad[1] and an accused of the Hardinge Bomb Conspiracy Case[1].He was sentenced to life imprisonment which was reduced to seven years' rigorous imprisonment[2].He was a Kayastha by caste so people called him Lalaji. He was last seen by an english writer R.V.Smith in the winter season of 1965[2]. He died unknown and unnoticed in the small cell (hi: Kothri) of his Haveli in Chandni Chowk area of old Delhi.

Brief memoires:
Lalaji was a wholesale dealer of foreign goods in Chandni Chowk Delhi. When he came in close contact of Lala Har Dayal and studied his books, he was drawn deeper into the freedom struggle. He opened a school of National thoughts in his Haveli at Mohalla Chailpuri in old Delhi where Master Amir Chand was a appointed as a principal[3] The school and the reading room situated in this Haveli of Lala Hanumant Sahai had became a regular haunt of revolutionaries like Ras Bihari Bose, Master Awadh Bihari and Basanta Kumar Biswas etc.
Lalaji became an active member of Bharat Mata Society which was formed by Amba Prasad Bhatnagar in 1907.[4] When the Viceroy, Lord Hardinge drove to Delhi in December 1912 from Calcutta, Ras Bihari Bose made a plan to kill him.[5].
In an interview given to the writer Smith, Lalaji had told: "Great preparations were made for the Viceroy's sawari (en: procession). Seats were arranged in the middle of Chandni Chowk and tickets were sold from Rs.50 to 300 in the black market. My seat was on Esplanade Road. Suddenly, as the procession neared Moti Bazar, there was a loud explosion. People thought a canon had been fired but I knew what had happened, so I came running to the scene. The Viceroy laid unconscious and was bleeding havily. The servant who was sitting behind him, had been blown to pieces by the homemade bomb. And Viceroy's wife, Lady Hardinge, though unhurt, also laid unconscious. They were taken to the Red Fort but the procession did not stop, it continued."[2]
Lalaji escaped from the police search, left Delhi and remained hidden underground in the house of his friend Sunder Lal which was situated under the hills of Shimla at his native place Solan. When police reached there to arrest Sunder Lal in some other case, then it was revealed that Lalaji was hidden in that house.[6]
Life imprisonment:
Later Lalaji, Master Amir Chand, Master Awadh Behari, Bhai Balmukund and Basant Kumar Biswas were arrested and tried[2]. Lalaji was sentenced to life imprisonment and was sent to the Andamans whereas the others were sentenced to death. Later an appeal was filed and Lalaji's life sentence was reduced to seven years' rigorous imprisonment, while the supreme sacrifice of his associates is still recalled every year when homage is paid to the Hardinge Bomb Case martyrs behind the Khooni Darwaza, where the Delhi Jail once stood. Now a Dental College in the name of Maulana Azad Medical College has been established there.
After his release from jail, Lalaji joined the Indian National Congress and from then onward he was in and out of the prison for various cases connected with the Indian freedom movement.[2]
Top secret:
The Hardinge Bomb conspiracy was the direct offshoot of the transfer of the Capital from Calcutta to New Delhi. Not that the people of Delhi did not like the move but they were opposed to the British seeking mileage out of it. Some false stories that more than one lakh Bengalis would be settled in Delhi also added fuel to the fire and stirred up local resentment. But then how does one explain the involvement of Rash Bihari Bose and Basant Kumar in the conspiracy?[2]
To his dying day Sahai did not disclose the name of the person who had actually thrown the bomb on the Viceroy. "That secret will go down to the grave with me," he declared and kept his words!
Only for a day:
When India got freedom in 1947, Lalaji stopped comming out of his Haveli. He used to come out only for a day on 15 August every year to see the flag hosting ceremony at Lal Qila (Delhi). When the people asked the reason he replied: "I go there to see how those people look speeking from the rampart of Red Fort, who betrayed us in freedom struggle of India."[7]

a ^ Kalam Aaaj Unkee Jay Bol refers to a History book written by Jagdish 'Jagesh' containing so many references & rare photographs etc. This book confirms about Lala Hanumant Sahai being an active member of Bharat Mata Society & his participation in the Indian freedom struggle.
b ^ Bhartiya Krantikari Andolan Ka Itihas refers to a History book written by Manmath Nath Gupta who himself was a revolutionary. The book contains so many authentic references & rare photographs of his times. Some facts about Lala Hanumant Sahai's residence in Chailpuri Mohalla of Chandni Chowk & Viceroy's murder attemp are given in this book.
c ^ Krantikari Kosh refers to a Context book of Indian revolutionaries written by Shrikrishna Saral who wrote more than 100 books. He was a called as a living revolutionary who sold even the household belonging to collect information. The book contains some historical facts about Lala Hanumant Sahai in 3 pages.
d ^ Bharat Ka Mukti Sangram refers to an acedemic book of Indian Freedom War written by Ayodhya Singh who wrote so many books. This book contains some historical facts about Hanumant Sahai's involvement in Viceroy Bomb Case of Delhi.
e ^ Swadhinta Sangram Ke Krantikari Sahitya Ka Itihas refers to an acedemic History book of Indian indepedence struggle written by Dr. 'Krant' M. L. Verma who was awarded senior fellowship for this project. This book contains authentic facts in a nutshell about Lala Hanumant Sahai on page 241 (Vol-I) and group photo of Bharat Mata Society on page no 860 (Vol-III).

  1. ^ a b Jagesh, Jagdish (1989). Kalam Aaaj Unkee Jay Bol (in Hindi). Varanasi: Hindi Pracharak Sansthan. p. 77. 
  2. ^ a b c d e f "The revolutionary of Chandni Chowk". The Hindu. 2004-08-02. Retrieved 2012-06-15. 
  3.  ^ Gupta, Manmathnath (1993). Bhartiya Krantikari Andolan Ka Itihas (in Hindi) (7 ed.). Delhi: Atmaram and Sons. p. 62. ISBN 81-7043-054-2. 
  4. ^ Radhan 2002, p. 351
  5. ^ Saral, Shreekrishna (1998). Krantikari Kosh (in Hindi) 2 (1 ed.). New Delhi: Prabhat Prakashan. pp. 209–212. ISBN 81-7315-233-0. 
  6. ^ Singh, Ayodhya (2003). Bharat Ka Mukti Sangram (in Hindi) (3 ed.). Delhi: Granth Shilpi. p. 225. ISBN 81-7917-033-0 (PB) Check |isbn= value (help). 
  7.  ^ Verma, Dr.'Krant' M. L. (2006). Swadhinta Sangram Ke Krantikari Sahitya Ka Itihas (in Hindi) 1 (1 ed.). New Delhi: Praveen Prakashan. p. 241. ISBN 81-7783-119-4 


  • Radhan, O. P. (2002). Encyclopaedia of Political Parties. Anmol Publications Pvt ltd. ISBN 81-7488-865-9 
  • Jagesh, Jagdish (1989). Kalam Aaaj Unkee Jay Bol (in Hindi). Varanasi: Hindi Pracharak Sansthan. pp. 77 & 103. 
  • Gupta, Manmathnath (1993). Bhartiya Krantikari Andolan Ka Itihas (in Hindi) (7 ed.). Delhi: Atmaram and Sons. p. 62. ISBN 81-7043-054-2. 
  • Saral, Shrikrishna (1998). Krantikari Kosh (in Hindi) 2 (1 ed.). New Delhi: Prabhat Prakashan. pp. 209–212. ISBN 81-7315-233-0. 
  • Verma, Dr.'Krant' M. L. (2006). Swadhinta Sangram Ke Krantikari Sahitya Ka Itihas (in Hindi) 1 (1 ed.). New Delhi: Praveen Prakashan. p. 241. ISBN 81-7783-119-4.

Thursday, May 29, 2014

Narendra Modi fulfilling last desire of Ram Prasad Bismil

अन्तिम समय की बातें

राम प्रसाद 'बिस्मिल' ने गोरखपुर जेल की कालकोठरी से 16 दिसम्बर 1927 ई० को निम्नलिखित पंक्‍तियों का उल्लेख अपनी आत्मकथा में किया था:

"जब तक कर्म क्षय नहीं होता, आत्मा को जन्म मरण के बन्धन में पड़ना ही होता है, यह शास्‍त्रों का निश्‍चय है। यद्यपि यह बात वह परब्रह्म ही जानता है कि किन कर्मों के परिणामस्वरूप कौन सा शरीर इस आत्मा को ग्रहण करना होगा किन्तु अपने लिए यह मेरा दृढ़ निश्‍चय है कि मैं उत्तम शरीर धारण कर नवीन शक्‍तियों सहित अति शीघ्र ही पुनः भारतवर्ष में ही किसी निकटवर्ती सम्बन्धी या इष्‍ट मित्र के गृह में जन्म ग्रहण करूँगा, क्योंकि मेरा जन्म-जन्मान्तर उद्देश्य रहेगा कि मनुष्य मात्र को सभी प्रकृति पदार्थों पर समानाधिकार प्राप्‍त हो। कोई किसी पर हकूमत न करे। सारे संसार में जनतन्त्र की स्थापना हो। वर्तमान समय में भारतवर्ष की अवस्था बड़ी शोचनीय है। अतएव लगातार कई जन्म इसी देश में ग्रहण करने होंगे और जब तक कि भारतवर्ष के नर-नारी पूर्णतया सर्वरूपेण स्वतन्त्र न हो जायें, परमात्मा से मेरी यह प्रार्थना होगी कि वह मुझे इसी देश में जन्म दे, ताकि उसकी पवित्र वाणी - वेद वाणी का अनुपम घोष मनुष्य मात्र के कानों तक पहुँचाने में समर्थ हो सकूँ। सम्भव है कि मैं मार्ग-निर्धारण में भूल करूँ, पर इसमें मेरा कोई विशेष दोष नहीं, क्योंकि मैं भी तो अल्पज्ञ जीव मात्र ही हूँ। भूल न करना केवल सर्वज्ञ से ही सम्भव है। हमें परिस्थितियों के अनुसार ही सब कार्य करने पड़े और करने होंगे। परमात्मा अगले जन्म से सुबुद्धि प्रदान करे ताकि मैं जिस मार्ग का अनुसरण करूँ वह त्रुटि रहित ही हो।"

इन पंक्तियों में जिन नवीन शक्तियों का उल्लेख बिस्मिलजी ने किया है वह सभी शक्तियाँ परमात्मा ने नरेन्द्र भाई मोदी में समाहित कर दी हैं। इसका परिणाम पूरा विश्व शीघ्र ही देखेगा प्रतीक्षा कीजिये।

Wednesday, May 14, 2014

अच्छे दिन आने वाले हैं

अमर शहीद पं० राम प्रसाद 'बिस्मिल' की उर्दू गज़ल
 "Kranti Geetanjali" written by Pt Ram Prasad Bismil was banned by the British Govt on 10th of December 1930. I got it from National Archives and edited it. It was published in 2006 by Praveen Prakashan 4760-61, 23, Ansari Road, Darya Ganj, New Delhi 110002. What Bismil had written about 90 years back is going to be true now in free India under the leadership of Narendra Modi
मादरे-हिन्द गमगीन न हो अच्छे दिन आने वाले हैं
आज़ादी का पैगाम तुझे हम जल्द सुनाने वाले हैं
माँ तुझको जिन जल्लादों ने दी है तकलीफ़ जईफ़ी में
मायूस न हो मगरूरों को हम मजा चखाने वाले हैं
कमजोर हैं औ' मुफ़्लिस हैं हम गो कुंजे-कफ़स में बेबस हैं 
बेकस हैं लाख मगर माता हम आफ़त के पर्काले हैं 
हिन्दू औ' मुसलमाँ मिलकर के जो चाहें सो कर सकते हैं 
अय चर्खे-कुहन हुशियार हो तू पुरजोर हमारे नाले हैं 
मेरी रूह को करना क़ैदे-कफ़स इन्कास से बाहर है उनके 
आज़ाद है अपना दिल शैदा गो लाख जुबां पे ताले हैं 
मग्लूब हैं जो होंगे ग़ालिब महकूम हैं जो होंगे हाकिम 
कब एक-सा दौर रहा किसका कुदरत के तौर निराले हैं 
आज़ादी के दीवानों ने वह मन्त्र चलाया है 'बिस्मिल'
लरज़ा है जिससे अर्शे-समाँ सरकार को जान के लाले हैं  
नोट: आप इस कविता  की स्कैण्ड कापी  https://www.facebook.com/photo.php?fbid=10203134595419607&set=a.4542436752833.234393.1048633668&type=1&theater इस लिंक पर भी देख सकते हैं .

शब्दार्थ संकेत: जईफ़ी=बृद्धावस्था, मगरूरों =घमण्डियों, मुफ़लिस=कंगाल, कुंजे-कफ़स=क़ैदखाने, परकाले=चिंगारी, चर्खे-कुहन=कालचक्र,नाले=इरादे, क़ैदे-कफ़स=हथकड़ी-बेड़ियों में, इन्कास=बस
मग्लूब=निर्धन, ग़ालिब=शक्तिशाली, महकूम=नौकर/दास, हाकिम=अफसर,लर्ज़ा=आन्दोलित, अर्शे-समां=सारा वातावरण 

Saturday, April 19, 2014

Congress divides and rules

गम्भीरता से सोचें

कहें 'क्रान्त' इस मुल्क में, क्या-क्या हुआ अजीब!
पहले बाँटा 'हिन्द' को, फिर उसकी तहजीब!!

कहें 'क्रान्त' इससे हुआ, बहुत बड़ा बदलाव!
भाई-भाई में हुआ, नफ़रत का फैलाव!!

कहें 'क्रान्त' सच की जगह, झूठ सौ दफ़े बोल!
हिन्दू-मुस्लिम-सिक्ख के, बीच दिया विष घोल!!

कहें 'क्रान्त' इस मुल्क में, काँग्रेस का राज!
अब ऐसा है जिस तरह, मर्ज़ 'कोढ़' में 'खाज'!!

कहें 'क्रान्त' इस मर्ज़ का, है एक ही इलाज!
काँग्रेस जाये,गया, ज्यों अंग्रेजी-राज'!!

कहें 'क्रान्त' इस बार हैं, कुछ ऐसे आसार!
नेता मिला नरेन्द्र -सा , पहली-पहली बार!!

कहें 'क्रान्त' यदि आ गयी, मोदी की सरकार!
आम आदमी देखना, उसे करेगा प्यार!!

Saturday, April 12, 2014

Narendra Modi and Yashoda Ben: a conspirated controversy

मोदी की शादी का मुद्दा

"सखि! वे मुझसे कहकर जाते" यह उलाहना गौतम बुद्ध की परित्यक्ता पत्नी  यशोधरा का तो हो सकता है यशोदा बहन का नहीं. क्योंकि नरेन्द्र भाई ने उन्हें बताकर ही देश-सेवा के मार्ग में कदम रक्खा था.

यहाँ याद आती हैं पं० रामप्रसाद बिस्मिल की ये पंक्तियाँ: "अपनी किस्मत में अजल ही से सितम रक्खा था, रंज रक्खा था मेहन रक्खी थी गम रक्खा था;हमने जब वादि-ए-गुर्बत में कदम रक्खा था, दूर तक यादे-वतन आयी थी समझाने को!"

और अन्त में  सबके लिये यह संदेश- "हे मातृभूमि! तू व्यथित न हो अच्छे दिन आने वाले हैं! फिर नया सबेरा एक बार मोदी जी लाने वाले हैं!!"

Sunday, March 30, 2014

2014 Electioneering scenario

चौदह का चुनाव

मित्रो! इस समय चुनाव-चर्चा चरम पर है ऐसे में हम जैसे आम-आदमी की सोच को दर्शाती एक गज़ल पोस्ट कर रहा हूँ यह कालजयी रचना है जिसका मूल्यांकन शायद कभी समय ही करेगा!

हम तो ले देके दौड़ लेते हैं!
वे हवाओं से होड़ लेते हैं!

पैंतरेबाज लोग इतने हैं,
मुँह सफाई से मोड़ लेते हैं!

आज उँगली पकड़ के चलते हैं,
कल कलाई मरोड़ लेते हैं!

तोड़ने के हुनर में माहिर हैं,
दल इशारों में तोड़ लेते हैं!

हमसे सीधा ज़रब नहीं जुड़ता,
वे तो तकसीम जोड़ लेते हैं!

'क्रान्त' इनका यकीन मत करना,
ये मुखौटे भी ओढ़ लेते हैं!!


नव संवत्सर अभिनन्दन

२०७१ वें नव संवत्सर की शुभकामनाएँ

संवत्सरो असि,परिवत्सरो असि, ईवत्सरो असि, इद्वत्सरो असि !
उषस:, अहोरात्र:, अर्द्धमास:, मासाश्च, ऋतव:, ते कल्पयन्ताम !!

प्रेत्यैच सम सारय प्रांच वत्सर, सुपर्ण आचित असि मंगलाचित!
देवस्तया  अंगिर  सीद अस्वत,  तया  ध्रुव:  नव - संवत्सरस्य !!

(यजुर्वेद-२७/४५ की प्रार्थना  का इन्द्रवज्रा छन्द में संस्कृत काव्य रूपान्तर)

उपरोक्त का हिन्दी काव्य-रूपान्तर

नया-वर्ष लो आ गया, गया पुराना वर्ष !
नये वर्ष में आपका, हो उत्तम उत्कर्ष !!

नव-प्रभात नव रात-दिन, नया पक्ष नव-मास!
नव-ऋतु बारह मास दें, जीवन में उल्लास!!

नये सुअवसर जो मिलें, कभी न जायें व्यर्थ!
यही हमारी दृष्टि हो, यही ध्येय का अर्थ!!

डॉ. मदनलाल वर्मा 'क्रान्त'
ग्रेटर नोएडा (भारत)

Wednesday, January 29, 2014

Ram Prasad Bismil as told by Ram Krishna Khatri

(ग्रुप में रामकृष्ण खत्री 6 नं० और रामप्रसाद बिस्मिल 1o नं० पर)

कितने बलवान थे बिस्मिल ?

काकोरी काण्ड में सजायाफ्ता क्रान्तिकारी स्व० रामकृष्ण खत्रीजी से मैं १५ जनवरी १९९४ को उनके निवास (मेंहदी बिल्डिंग कैसर बाग लखनऊ) में स्वयं जाकर मिला था. उन दिनों मैं रामप्रसाद बिस्मिल के बारे में तथ्य एकत्र कर रहा था. उन्होंने मुझे बिस्मिल के शारीरिक बल और बहादुरी के कुछ हैरत अंगेज किस्से सुनाये थे. उन्हीं में से दो किस्सों का मैं यहाँ उल्लेख कर रहा हूँ.  
९ मार्च १९२५ (काकोरी काण्ड से ठीक ५ महीने पहले) रामप्रसाद 'बिस्मिल' के नेतृत्व में हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के कुछ सदस्यों ने एक डकैती पीलीभीत जिले के बिचपुरी गाँव में तोती नाम के एक कुर्मी के यहाँ डाली थी. इस डकैती में क्रान्तिकारियों के हाथ कोई खास रकम तो नहीं आयी अलबत्ता दो बार पुलिस से मुठभेड़ जरूर हुई. लेकिन बिस्मिल की दिलेरी और प्रत्युत्पन्नमति से दल के सभी सदस्य बाल-बाल बच गये थे.

बकौल खत्री जी जब  हम  लोग पगडण्डी पर जा रहे थे सहसा सामने से एक पुलिस का गश्ती दल आता दिखायी पड़ा. पण्डित जी (रामप्रसाद बिस्मिल) ने तत्काल सभी साथियों को खेत में छिप जाने का आदेश दिया और खुद पगडण्डी पर बुत की तरह खड़े हो गये. न हिले न डुले. हम सबको आश्चर्य हो रहा था कि अब क्या होगा पण्डित जी अकेले खड़े हैं और सामने से आने वाले गश्ती दल में पता नहीं कितने पुलिस वाले होंगे? खैर, हम सभी साथी साँस रोककर अपने-अपने हथियार सम्हाले हुए पूरी तौर पर सतर्क होकर लेट गये.

तभी गश्ती दल पास आया. पण्डित जी एक दम बुत की तरह खड़े रहे न हिले न डुले और न ही आँखों की पलक झपकने दी. पुलिस इन्सपेक्टर ने उनसे एक फुट के फासले पर जायजा लिया कि देखें तो यह बला क्या है जो चुपचाप खड़ी हुई है और कोई हरकत भी नहीं कर रही. यहाँ तक अपनी पलक भी नहीं झपका रही. इन्सपेक्टर ने किताबों में हिन्दुस्तानी भूतों की कहानियाँ पढ़ी हुई थीं. सहसा उसे लगा कि हो न हो यह कोई भूत है जो आज यहाँ मेरा रास्ता रोककर खड़ा हुआ है. क्योंकि अगर यह आदमी होता तो रास्ते से हट जाता और अगर चोर होता तो भाग खड़ा होता. वह अभी असमंजस में ही था कि पण्डित जी ने बायें हाथ से खोपड़ी पकड़कर उस इन्सपेक्टर की गर्दन इतनी बुरी तरह मरोड़ी कि वह "भूत! भूत!" कहकर उल्टे पाँव वहाँ से भाग लिया. उसकी देखा-देखी बाकी सिपाही भी उसके पीछे-पीछे हाँफते हुए दौड़ लिये.

पण्डित जी की बहादुरी से हम सब हैरान रह गये. रास्ते में पण्डित जी ने हम लोगों से हँसते हुए कहा - "देखा ये पुलिस वाले कितने बहादुर होते हैं जो आदमी तो आदमी भूत से भी इतना ज्यादा डरते हैं!"

दूसरा किस्सा खत्री जी ने लखनऊ जेल का सुनाया. 195 एकड़ में बनी हुई यह खुली जेल हुआ करती थी जिसके जेलर उन दिनों चम्पालाल जी थे. जेल में हम सभी क्रान्तिकारियों को पूरी आज़ादी थी. जेल की बैरक नं० ग्यारह में हम सभी क्रांतिकारियों को रखा गया था. सुबह का वक़्त था हम लोग अखबार पढ़ रहे थे. अखबार में एक खबर छपी थी कलयुगी भीम प्रो० राममूर्ति का ऐलान - "सरकार गौकसी बन्द कर दे तो वे रेल का इंजन रोक कर दिखा देंगे". उन दिनों प्रो० राममूर्ति जिनका पूरा नाम कोडी राममूर्ति नायडू था, हिन्दुस्तान के एक ऐसे महाबली पहलवान थे जिनकी धाक पूरे संसार में थी. मोटर गाड़ियों को रोकने का करिश्मा वे देश-विदेश में कई जगह कर चुके थे. कलयुगी भीम की उपाधि उन्हें किसी और ने नहीं वरन खुद ब्रिटिश सरकार ने दी हुई थी.

अखबार पढ़कर हम लोग आपस में बहस करने लगे. यह सब बकवास है कहाँ गाड़ी का इंजन और कहाँ एक आदमी! यह कैसे सम्भव हो सकता है? इतने में शायद मन्मथनाथ गुप्त ने मजाक में कह दिया मोटर गाड़ी रोकने की खबर अंग्रेजों ने हिन्दुस्तान की भोली-भाली जनता का ध्यान बँटाने के लिये अखबार में छाप दी है इसमें कोई सच्चाई थोड़े ही है. हम सब उनकी बात सुनकर हाँ में हाँ मिलाने लगे. तभी पण्डित जी उठे और हम सबको बताने लगे- "आप लोगों ने प्रो० राममूर्ति को देखा नहीं है, मैंने देखा है जब वे खण्डवा (म०प्र०) आये थे. वे बली नहीं महाबली हैं. उनके लिये मोटर गाड़ी रोक देना बायें हाथ का खेल है." हमने भी उत्सुकता वश पण्डित  जी से प्रश्न किया-"यह कैसे सम्भव है?' उन्होंने उत्तर दिया - "योगबल से सब कुछ सम्भव है."

इतने में शचीन्द्रनाथ सान्याल बोल उठे- "तब तो पण्डित जी आप भी रोक देंगे. आप भी तो रोजाना योग करते हैं. क्यों पण्डित जी?" पण्डित जी हँसे और बोले - "हाथ कंगन को आरसी क्या और पढ़े-लिखे को फ़ारसी क्या?"
"हाँ भाई हाँ!" किसी ने पीछे से फिकरा कसा. दूसरा बोला- "और अपने पण्डित जी तो उर्दू-फ़ारसी भी जानते हैं. गाड़ी मँगा लो. देखते हैं रोक पाते हैं कि नहीं." इतने में पुलिस की एक बहुत बड़ी ट्रकनुमा लारी आ गयी.

पण्डित जी हँसे और बँगला में बोले - "दादा! परीक्षा मत लो किरकिरी हो जायेगी!" सचिन दा भी कम नहीं थे बोल पड़े- "यह कोई मामूली लारी नहीं, ६४ हार्सपावर का फोर व्हील ड्राइव ट्रक है. क्या समझे पण्डित जी! बाजू उखड़ के बाहर आ जायेंगे."  देखा जाये तो सचिन दा ने एक तरह से खुला चैलेन्ज ही दे दिया था रामप्रसाद बिस्मिल  जैसे एक ऐसे क्रान्तिकारी को जो पहले से ही ब्रिटिश साम्राज्य को खुली चुनौती दे चुका था.

काफी बहस के बाद तय किया गया कि ड्राइवर को कहा जाय कि वह लारी स्टार्ट करे और पण्डित जी रोक कर दिखाएँगे! इस पर पण्डित जी बोले मेरी भी एक शर्त है- "आप सब लोग लारी में बैठ जायेंगे. मैदान में कोई एक भी नहीं रहेगा वरना दादा का कोई भरोसा नहीं ये कह देंगे सारे यू०पी० वालों ने रामप्रसाद को सहारा दे दिया होगा. वरना अकेले कोई इतनी बड़ी लारी रोक कर क्या अपने अस्थिपंजर ढीले करायेगा?"

खत्री जी ने आगे जो कहानी बतायी वह स्तब्ध कर देने वाली थी. "लारी बीचोंबीच मैदान में खड़ी की गयी. हम सभी क्रांतिकारियों को उसमें बैठाया गया. ६ नम्बर का कैदी मैं था मैं सबसे बाद में इसलिये बैठा कि कहीं कुछ अनहोनी हुई तो फटाक से कूदकर पण्डित जी को बचा लूँगा. क्योंकि इन दादा लोगों का क्या भरोसा? ये पहले पेड़ पर चढ़ा देते हैं फिर उसका तना काटने लगते हैं.

पण्डित जी ने पहले हुड में रस्से को खूब मजबूती से बाँधा फिर उसे अच्छी तरह चेक किया कि कहीं टूटेगा तो नहीं. उसके बाद अखाड़े की मिट्टी अपने दोनों हाथों में मली जिससे पकड़  ढीली न हो जाये, मातृभूमि की थोड़ी सी रज लेकर माथे से लगायी और परमात्मा का स्मरण करके रस्सा पकड़ लिया. पण्डित जी साँस रोककर खड़े हो गये. ड्राइवर ने भी लारी स्टार्ट की और पूरी ताकत से एक्सेलेटर दबा दिया. खत्री जी बताया- "हम सभी के आश्चर्य का कोई ठिकाना ही न रहा जब लारी के चारो पहिये धूल फेंकने लगे और लारी अपनी जगह से एक इंच भी टस से मस न हुई. इतने बलवान थे पण्डित जी! आह! ऐसे नवजवान अब इस लोक में दुबारा कहाँ देखने को मिलेंगे?"

इतना कहकर खत्री जी की आँखें भर आयीं. मैं भी सोचने लगा परमात्मा भी कितना विचित्र है! कैसे-कैसे खेल रचाता रहता है! उसने यह देखने को मुझे ही लखनऊ भेज दिया कि जाओ और अपने साथियों के विचार  जानो, वे कैसा सोचते हैं .......    

Tuesday, January 28, 2014

Ai mere vatan ke logo! (symetrical song)

जो हुई थी इमरजेंसी में ........

कविवर रामचंद्र द्विवेदी 'प्रदीप' के लिखे और संगीतकार सी. रामचंद्र के संगीत से सजे गीत ' ऐ मेरे वतन के लोगों ज़रा आंख में भर लो पानी' को ५१ साल पहले जब नई दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में जवाहरलाल नेहरू की मौजूदगी में पहली बार लता मंगेशकर ने गाया था तो उनकी आँखें भर आयीं थीं.

मैंने इमरजेंसी के दौरान इसी गीत की तर्ज़ पर यह गीत लिखा था. बाद में यही गीत बम्बई से प्रकाशित "माधुरी" पत्रिका में १० जून १९७७ को प्रकाशित हुआ था. कल जब मुम्बई में लता दीदी ने नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में लाखों लोगों के साथ इसे गाया तो मुझे लगा कि अब आवश्यकता है कि इतिहास को बतलाया जाये. इसलिये अपने ब्लाग के पाठकों के लिये यहाँ पोस्ट कर रहा हूँ.

ऐ मेरे वतन के लोगों! खुश होके मनाओ दिवाली!
मुद्दत के बाद कटी हैं वो गम की घटाएँ काली!!
पर मत भूलो हम सब पर ऐसे भी बुरे दिन आये!
कुछ याद उन्हें भी कर लो,
कुछ याद उन्हें भी कर लो ....
जो जुल्म गये थे ढाये......!!!

ऐ मेरे वतन के लोगों! जरा सोच के पिछली कहानी!
जो हुई थी इमरजेंसी में जरा याद करो मनमानी!!

जब देश में थी दीवाली, बेटा थे सितम ढाने में!
मइया बैठी थी महल में, नेता थे कैदखाने में!!
घुटने पे टिकाकर माथा, सो गये थे वो अभिमानी!
जो हुई थी इमरजेंसी में जरा याद करो मनमानी!!

कर संविधान संशोधन पहले छीनी आज़ादी!
ऊपर से लगाकर 'मीसा' नीचे से नसें कटवा दीं!!
फिर प्रेस पे लगाकर सेंशरशिप कर दी कड़ी निगरानी!
जो हुई थी इमरजेंसी में जरा याद करो मनमानी!!

कोई नट कोई भाट बना था, कोई चमचा कोई चपरासी!
युवराज पे मरने वाला, कहता था उन्हें अविनाशी!!
इन्दिरा हि बस भारत हैं सुनकर थी हुई हैरानी!
जो हुई थी इमरजेंसी में जरा याद करो मनमानी!!

चण्डी की तरह झपटी थी, नेहरू की बहादुर बेटी!
अपनी 'कुर्सी' को बचाने, कस ली थी कमर में पेटी!!
जिस-जिस से उन्हें खतरा था, उस-उस को पिलाया पानी!
जो हुई थी इमरजेंसी में जरा याद करो मनमानी!!

जनता को समझ कर माफिक, झट से चुनाव करवाया!
पर पाँसा ऐसा पलटा, सबका हो गया सफाया!!
जब कुछ भि न बन पाया तो कह दिया कि सह लेते हैं!
खुश रहना खिदमतगारों! हम इस्तीफ़ा देते हैं!!

सोचो तो यह सच लगता है, कुर्सी की थी क्रूर कहानी!
जो हुई थी इमरजेंसी में जरा याद करो मनमानी!!  

Tuesday, January 14, 2014


मकर संक्रान्ति 14 -01-2014 पर HAPPY EARTH DAY!

अहा! कर रहा अभिनन्दन नव-वर्ष तुम्हारा,
यह वसुधा का जन्म-दिवस हो सबको प्यारा!
हमें न मोहे  सुरा-सुन्दरी का आकर्षण,
राष्ट्र-प्रेम की बहे ह्रदय में अविरल धारा!

जिस धरती पर पैदा होकर मर जाते हैं,
उसके लिए होम कर दें यह जीवन सारा!
मानवता जो अब तक पड़ी कराह रही है,
उसके प्रति भी हो कुछ तो कर्तव्य हमारा!

नोट: मित्रो! १४ जनवरी मकर संक्रान्ति के दिन मैंने हम सबकी माँ धरतीमाँ के पावन जन्म-दिवस १४ जनवरी पर अपनी शुभ-कामनायें पहले अंग्रेजी में दी थीं उसके बाद उपरोक्त हिन्दी कविता में प्रस्तुत की थीं इस वर्ष नये नारे "हैप्पी अर्थ डे!" के साथ समस्त देश वासियों को अपने ह्रदय से नव वर्ष की शुभ-कामनायें देता हूँ.